Unit VI (Health)
Unit VII (Organizaitons and Misc)
Unit VIII (Energy)
Unit IX (Environment)
Unit X (Geology)

Unit II - Chemistry

2222.JPG
2223.JPG

1.1.1तत्‍व, और परमाणु की अवधारणा

तत्‍व एक शुद्ध पदार्थ है, परन्‍तु शुद्धता का आशय यहॉ मलिनता या अपिवत्रीकरण से नहीं है। शुद्धता का आशय है कि ऐसा पदार्थ जो केवल एक ही तरह के परमाणुओं से निर्मित है। अभी तक कुल 118 तत्‍व खोजे जा चुके हैं, जिनमें से 94 प्राकृतिक रूप से विद्यमान हैं और शेष को संश्‍लेषण के माध्‍यम से तैयार किया गया है।

 

तत्‍व के उदाहरण हैं, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, आक्सीजन, कार्बन, सोडियम, पोटेशियम, क्‍लोरीन, सिलिकॉन आदि। परन्‍तु, पानी, नमक, चीनी आदि तत्‍व नहीं हैं, ये यौगिक हैं, परन्‍तु ये मिश्रण नहीं हैं, क्‍योंकि न सिर्फ ये सब दो या दो से अधिक तत्‍वों से मिलकर बने हैं, बल्कि इनके घटक तत्‍वों के द्रव्‍यमान का अनुपात इन यौगिकों के समस्‍त नमूनों में समान है। उदाहरणार्थ, पानी हाईड्रोजन और ऑक्‍सीजन से मिलकर बना है और शुद्ध पानी में हाईड्रोजन और ऑक्‍सीजन के परमाणविक द्रव्‍यमान का अनुपात समान रहता है, चाहे पानी कहीं से भी लिया गया हो; इसी प्रकार नमक, सोडियम और क्‍लोरीन से मिलकर बना है। शुद्ध नमक में सोडियम और क्‍लोरीन के परमाणविक द्रव्‍यमान का अनुपात समान रहता है, चाहे नमक कहीं से भी लिया गया हो; चीनी, कार्बन, हाईड्रोजन और ऑक्‍सीजन से मिलकर बनी है। चीनी में कार्बन, हाईड्रोजन और ऑक्‍सीजन के परमाणविक द्रव्‍यमान का अनुपात समान रहता है, चाहे चीनी किसी भी शुगर मिल में बनी हो।

परन्‍तु पानी में नमक या चीनी का घोल एक मिश्रण का उदाहरण है, क्‍योंकि इनके घटकों (अर्थात पानी, नमक और चीनी) की मात्रा में इच्‍छानुसार परिवर्तन किया जा सकता है। किसी तत्व में एक परमाणु सबसे छोटा कण होता है जिसमें तत्व के सम्‍पूर्ण गुण होते हैं। इस प्रकार परमाणु किसी भी पदार्थ का निर्माण खण्‍ड (building block) हैं। यह किसी भी तत्‍व का ऐसा सबसे छोटा कण है, जो एक रासायनिक अभिक्रिया में भाग लेता है।

परमाणु के सम्‍बंध में हम विस्‍तार से आगे पढ़ेंगे।

1.2 लम्‍बाई, द्रव्‍यमान और समय, जो मूल इकाईयॉ हैं, के मूल मात्रक हेतु 1971 तक तीन प्रणालियॉ थीं:

  1. MKS प्रणाली – लम्‍बाई के लिये मीटर, द्रव्‍यमान के लिये किलोग्राम और समय के लिये सेकेन्‍ड

  2. CGS प्रणाली – लम्‍बाई के लिये सेंटीमीटर, द्रव्‍यमान के लिये ग्राम और समय के लिये सेकेन्‍ड

  3. FPS प्रणाली – लम्‍बाई के लिये फुट, द्रव्‍यमान के लिये पाउंड और समय के लिये सेकेन्‍ड

 

इकाइयों की प्रणाली जो वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मापन के लिए स्वीकार की गई है, सिस्टेम इंटरनेशनेल डि यूनिट्स (फ्रेंच भाषा में मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली) {Système Internationale d’ Unites (French for International System of Units)} है, जिसे संक्षिप्त रूप में या संकेताक्षर में SI लिखा जाता है। SI प्रतीकों, मात्रकों और उनके संकेताक्षरों की योजना 1971 में, मापतोल के महा सम्मेलन द्वारा विकसित कर, वैज्ञानिक, तकनीकी, औद्यौगिक एवं व्यापारिक कार्यों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उपयोग हेतु अनुशंसित और अनुमोदित की गई। SI मात्रकों की 10 की घातों पर आधरित (दाश्मिक) प्रकृति के कारण, इस प्रणाली के अंतर्गत रूपांतरण अत्यंत सुगम एवं सुविधजनक है। SI प्रणाली में निम्‍नानुसार मूलभूत या आधार इकाई वाली कुल सात भौतिक राशियों को समाहित किया गया है: